महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना, नरेगा जॉब कार्ड | NREGA JOB CARD LIST

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम | MGNREGA Scheme | महात्मा गांधी नरेगा योजना | NREGA JOB CARD LIST | नरेगा जॉब कार्ड

भारत मेंमहात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम एक रोजगार गारंटी योजना है जिससे 7 सितंबर 2005 को देश में लागू किया गया था। महात्मा गांधी नरेगा योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र का विकास और ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को रोजगार प्रदान करना है। NREGA Yojana (नरेगा योजना) का मग्सद बड़ी सँख्या में मजदूरों का शहर की और पलायन रोकना है। ग्रामीण क्षेत्र में रोजगार के कम अवसर होने के कारण मजदूरों ने रोजगार के लिए शहरों की और रुख किया और शहरी आबादी तेजी से बढ़ने लगी इस पलायन को रोकने के लिए लोगों को ग्रामीण क्षेत्र में ही रोजगार देने का निर्णय सरकार द्वारा लिया गया।

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम – NREGA Yojana

मनरेगा योजना गरीब रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों के बेरोजगार लोगों को उनके आस पास 5 किलोमीटर के दायरे में 100 दिन के काम की न्यूतम गारंटी प्रदान करती है। NREGA Yojana में गैर-कुशल और कुशल दोनों तरह के काम शामिल है। इस योजना में आवेदन करने पर आवेदक को नरेगा जॉब कार्ड प्रदान किया जाता है।

Objective of NREGA

इस महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना का उद्देश्य प्रत्येक ग्रामीण परिवार को हर वित्तीय वर्ष में कम से कम 100 दिनों की गारंटीकृत मजदूरी रोजगार प्रदान करना है, जिसके वयस्क सदस्य को अकुशल और कुशल कार्य प्रदान किये जाते है। मनरेगा मजदूरी रोजगार के लिए एक कानूनी गारंटी प्रदान करता है।इस योजना के अंतर्गत काम या मिनिमम मजदूरी नहीं देने पर भी कानूनी प्रावधान हैं। नरेगा आवेदक को निवास के 5 किमी के भीतर रोजगार दिया जायेगा और न्यूनतम मजदूरी का भुगतान किया जाना है। यदि आवेदन करने के 15 दिनों के भीतर काम नहीं दिया जाता है, तो आवेदक बेरोजगारी भत्ते के हकदार हैं। हर एक अवेदक का NREGA Job card के जरिये काम का रिकॉर्ड भी रखा जायेगा।

महात्मा गांधी नरेगा योजना के प्रमुख जानने योग्य बाते।

  • इस महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना का पहले नाम राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना रखा गया था। 31 दिसंबर 2009 को योजना के नाम को परिवर्तन करके महात्मा गाँधी राष्ट्रीय रोजगार गारण्टी योजना कर दिया गया।
  • MGNREGA Scheme पंजीकरण के 15 दिनों के भीतर रोजगार उपलब्ध करती है। अगर किसी कारण वर्ष रोजगार नहीं मिलता है तो आवेदक बेरोजगारी भत्ते के लिए पात्र हो जाता है।
  • महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना के शुरू में निर्धारित न्यूनतम मजदूरी 100 रुपये एक दिन थी लेकिन बाद में राज्य श्रम रोजगार ने इसे बढ़ा कर 202 रुपये कर दिया है। ये राशि राज्य सरकार के सहयोग से अधिक भी हो सकती है।

ई श्रम पोर्टल पर कार्ड के लिए आवेदन कैसे कैरे।

Work to be done under NREGA

  • NREGA Yojana के अंतर्गत विभिन्न कार्य कराये जाते है, जैसे की जल संरक्षण ,भूमि विकास, विभिन्न तरह के आवास निर्माण ,लघु सिंचाई, ग्रामीण सम्पर्क मार्ग निर्माण आदि
  • मनरेगा योजना के अंतर्गत सभी कार्य केन्द्र सरकार राज्य सरकारों से सलाह लेकर ही अधिसूचित करती है |

Nrega Job Card, Check Related Important Information

  • महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना में काम करने वाले व्यक्ति को एक जॉब कार्ड दिया (NREGA Job Card) जाता है जिसे नरेगा जॉब कार्ड का नाम दिया गया है। इस कार्ड के माध्यम से ही सारा रिकॉर्ड रखा जाता है।
  • एक ग्रामीण परिवार के वयस्क सदस्य, अकुशल काम करने के इच्छुक, लिखित रूप में या स्थानीय ग्राम पंचायत में पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • जांच पड़ताल के बाद ग्राम पंचायत जॉब कार्ड जारी करेगी। जॉब कार्ड मनरेगा के तहत काम करने वाले इच्छुक वयस्क का होगा जिस पर उसकी तस्वीर लगी होगी और ये कार्ड नि: शुल्क होगा। MGNREGA में कम से कम एक तिहाई लाभार्थी ऐसी महिलाएँ होंगी जिन्होंने योजना के तहत पंजीकरण किया है।
  • राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम योजना के अंतर्गत 100 कार्य दिवस के रोजगार की गारंटी दी है और मजदूरी का भुगतान बैंक, डाकघर के बचत खातों के माध्यम से किया जाता है।
  • महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम योजनामें जुड़ने के लिए आवेदनकर्ता को रजिस्ट्रेशन आप ग्राम पंचायत के माध्यम से करवाना होगा
  • जांच के बाद ग्राम पंचायत आपको इस योजना के लिए रजिस्टर करेगी और आपको इस योजना का कार्ड उपलब्ध करायेगी
  • अगर आप मनरेगा जॉब कार्ड योजना के तहत एक रजिस्टर्ड परिवार हैं और आप अपना जॉब कार्ड देखना (Nrega Job Card Download) या डाउनलोड करना चाहते हैं तो ये कार्ड आप सरकार की इस योजना की वेबसाइटपर जाकर चेक कर सकते है।
  • MGNREGA की किसी सहायता या Nrega Job Card के लिए toll free number 1800-345-22-44 पर फ़ोन करके जानकारी ले सकते है।

NREGA JOB CARD LIST – महात्मा गांधी नरेगा जोब कार्ड लिस्ट

  • Nrega job card List search करने के लिए नरेगा योजना की वेबसाइट पर विजिट करे और रिपोर्ट्स में JOB cards पर पर क्लिक करे। जैसा नीचे दिखाया गया है।

Nrega-Job-card

  • अब राज्य के नाम का चयन करे

Nrega-Job-card-select-state

  • राज्य के नाम का चयन करने पर एक नया पेज Nrega Job Card के लिए ओपन होगा वहाँ मांगी गयी सूचना एंटर करे। जैसा नीचे दिखाया गया है।

NREGA-Job-Card

  • फिर नये पेज पर Nrega job card register पर क्लिक करे और आपके पंचायत में मौजूद जितने भी वर्कर हैं जो मनरेगा के तहत रजिस्टर्ड हैं उनकी जानकारी आ जाएगी।
  • लिस्ट में अपना नाम देखें और जहां पर MGNREGA Job card number लिखा है वहां क्लिक करें और आपका कार्ड ओपन हो जायेगा। “nrega job card search” करने के बाद आप ये महात्मा गांधी “नरेगा जोब कार्ड प्रिंट” भी कर सकते है।

States available on Website for Nrega Job Card List

  • आंध्र प्रदेश
  • हिमाचल प्रदेश
  • जम्मू और कश्मीर
  • झारखण्ड
  • कर्नाटक
  • सिक्किम
  • तमिलनाडु
  • त्रिपुरा
  • उत्तर प्रदेश
  • उत्तराखंड
  • महाराष्ट्र
  • मणिपुर
  • मेघालय
  • मिजोरम
  • नागालैंड
  • ओडिसा
  • पंजाब
  • वेस्ट बंगाल
  • अंडमान निकोबार
  • दादर नागर हवेली
  • दमन दीउ
  • गोवा
  • लक्षदीप
  • पॉन्डिचेरी
  • चंडीगढ़
  • अरुणाचल प्रदेश
  • असम
  • बिहार
  • छत्तीसगढ़
  • गुजरात
  • हरियाणा
  • केरल

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना में ग्रीवेंस दर्ज कैसे करे ?

यदि आप महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना में कोई शिकायत दर्ज़ करना चाहते है तो वो आप ऑनलाइन आधिकारिक पोर्टल पर Menu में Public Grievance में जाकर कर सकते है।

  • इसके लिए आपको Lodge Grievance पर क्लिक करना होगा।

Nrega-grievance

  • अगले पेज पर सभी राज्यों की सूचि आ जाएगी। जिस राज्य में आपको कोई शिकायत है उस पर क्लिक करे।
  • फिर आपके सामने Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act का Complainant form आ जायेगा।
  • इस फार्म में आपसे कुछ डिटेल जैसे नाम, पता शिकायत, शिकायत टाइप, डॉक्यूमेंट यदि कोई हो तो, ये सब भर कर save कम्प्लेन पर क्लिक करे और कम्पलेन नंबर सेव कर ले।

ग्रीवेंस दर्ज की स्तिथि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम में कैसे जाने ?

  • इसके लिए आपको नरेगा आधिकारिक वेबसाइट पर check Grievance status पर क्लिक करना होगा।
  • नया पेज खुलने पर Complain ID enter करे और proceed बटन पर क्लिक करे।
  • फिर आपके सामने आपकी की गयी कम्प्लेन की स्तिथि आ जाएगी।

Nrega reports

यदि आप महात्मा गांधी मनरेगा योजना से जुडी reports देखना या डाउनलोड करना चाहते है तो वो भी आप आधिकारिक वेबसाइट से कर सकते है। Nrega Reports download करने के लिए आप को नीचे दिए गए तरीके का पालन करना होगा।

  • NREGA वेबसाइट खुलने पर MIS report पर क्लिक करे और अगले पेज पर captcha verify करे।
  • इसके बाद Financial Year और state सेलेक्ट करे।
  • Next पेज पर आपके सामने State से जुडी reports आ जाएगी।

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम की शुरुआत

सबसे पहले नरेगा की शुरुआत बेल्जियम में हुई थी। बेल्जियम के एक महान अर्थशास्त्री, ज्या द्वेंज द्वारा नरेगा की शुरुआत हुई।

भारत में भी नरेगा की अवधारणा बेल्जियम से ही आई है।

भारतीय संसद में 25 अगस्त 2005 को नरेगा से संबंधित अधिनियम पारित किया गया। जिसके अंतर्गत अन्न योजना एवं ग्रामीण रोजगार योजना का विलय किया गया और राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना नाम से एक नया अधिनियम पारित किया गया।

2 फरवरी 2006 को आंध्र प्रदेश राज्य के अनंतपुर जिले के बदला पल्ली नामक गांव में सबसे पहले राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम लागू किया गया। इसीलिए पूरे देश में 2 फरवरी को नरेगा दिवस मनाया जाता है।

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के चरण:

  • नरेगा के प्रथम चरण में इसे भारत के 200 जिलों में लागू किया गया।
  • महात्मा गांधी मनरेगा योजना का दूसरा चरण 1 अप्रैल 2007 को शुरू हुआ। जिसमें भारत के 113 जिलों को शामिल किया गया, उसके बाद 15 मई 2007 को 13 अन्य जिलों को और शामिल किया गया।
  • नरेगा का तीसरा चरण 1 अप्रैल 2008 को शुरू हुआ। जिसमें यह अधिनियम समस्त ग्रामीण भारत में लागू हो गया।
  • इसके तहत सरकार द्वारा एक कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका टोल फ्री नंबर
  • 1800-345-22-44 है । जहाँ से आप नरेगा जॉब कार्ड, पेमेंट, नरेगा लिस्ट में अपना नाम कैसे देखें आदि जानकारी के लिए सहायता प्राप्त कर सकते है।
राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के चरण:
  • महात्मा गांधी मनरेगा योजना के प्रथम चरण में इसे भारत के 200 जिलों में लागू किया गया।
  • नरेगा का दूसरा चरण 1 अप्रैल 2007 को शुरू हुआ। जिसमें भारत के 113 जिलों को शामिल किया गया, उसके बाद 15 मई 2007 को 13 अन्य जिलों को और शामिल किया गया।
  • महात्मा गांधी मनरेगा योजना का तीसरा चरण 1 अप्रैल 2008 को शुरू हुआ। जिसमें यह अधिनियम समस्त ग्रामीण भारत में लागू हो गया।
महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा)

महात्मा गांधी जी के जन्म दिवस पर नरेगा का नामकरण महात्मा गांधी जी के नाम पर कर दिया गया।

2 अक्टूबर 2009 को राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम का नाम बदलकर महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम कर दिया गया।

सरकार ने गरीबो को आर्थिक सहायता के लिए कुछ अन्य योजनाए भी चलायी है जिनके लेख इस Website पर लिखे गए है। आप प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना भी पढ़ सकते है।

दोस्तों आपको ये महात्मा गांधी नरेगा योजना पर आर्टिकल कैसा लगा कमेंट सेक्शन में हमें बताये यदि आप योजना के बारे में कुछ पूछना या जानना है जो भी आप कमेंट के जरिये पूछ सकते हैं अगर आपको महात्मा गांधी मनरेगा योजना आर्टिकल अच्छा लगा है तो इसे लाइक और शेयर करे। ऐसे ही और भी आर्टिकल आप वेबसाइट sarkarkiyojana.com के माध्यम से पढ़ सकते है।

ये भी पढ़े

अन्य आर्टिकल जैसे अटल पेंशन योजना क्या है और इसके लिए आवेदन कहा और कैसे करे और आपको इसके क्या लाभ होंगे।
किसान निधि योजना के फायदे व आवेदन कैसे करे।
one nation one ration card क्या है और आपको इसका क्या फायदा हो सकता है

नरेगा जॉब कार्ड से सम्बंधित पूछे जाने वाले प्रश्न और उत्तर- Frequently asked question in Nrega Job Card

महात्मा गांधी नरेगा योजना क्या है (What is NREGA Scheme ) ?

महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी अधिनियम (full form of mgnrega) वह योजना है जिसके द्वारा भारत के ग्रामीण क्षेत्रों से जुड़े लोगों को उनके परिवारों के लिए वित्तीय वर्ष में 100 दिन तक के रोजगार का अवसर दिया जाता है।

ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले लोगों को किस तरह के काम लिए जाते है?

महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना के तहत दिए गए कार्य में अकुशल (Unskilled) कार्य शामिल है और भुगतान अब उनके जन धन बैंक खाते के माध्यम से वितरित किए जाते हैं।

नरेगा जॉब कार्ड कैसे डाउनलोड कर सकता है?

Nrega Job card List आवेदक को महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। आवेदक को उस राज्य के नाम का चयन करना होगा जहां से वे नरेगा योजना लागू कर रहे हैं।

नरेगा और मनरेगा में क्या अंतर है?

मनरेगा और नरेगा में कोई अंतर नहीं है। नरेगा का नाम महात्मा गांधी के साथ रखा गया है। 2009 में एक संशोधन द्वारा NREGA में महात्मा गाँधी जी का नाम जोड़ा गया और इसे महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (MGNREGA) नाम दिया गया। full form of mgnrega is Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act.

महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना में कोई शिकायत कैसे करे ?

इसके लिए आपको महात्मा गांधी नरेगा वेबसाइट पर Public Grievance में Lodge Grievance पर क्लिक करना होगा और कम्प्लेन फॉर्म भरना होगा।

7 Responses

  1. Naresh Pandor says:

    Rojghar gharnti

  1. June 24, 2020

    […] 1 बीघा योजना केंद्र की महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजग… (MGNREGS) से जुड़ी हुई है, जहां एक महिला या […]

  2. January 7, 2021

    […] के लिए कई तरह से फंड मिलते हैं । इनमें मनरेगा, ग्राम सड़क योजना और इंदिरा आवास शामिल […]

  3. September 13, 2021

    […] Click Here for Nrega Job card […]

  4. December 4, 2021

    […] नरेगा जॉब कार्ड कैसे प्राप्त करे और इस… […]

  5. May 26, 2022

    […] निचे दिया है। जिसके बाद आपके सामने NREGA वेबसाइट का मुख्य पेज खुल […]

  6. September 7, 2023

    […] किसी आवेदन कर्ता का मनरेगा रोजगार गारंटी योजना में पंजीकरण हो चुका है, तो वे इस योजना […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *